लहसुन को घर पर कैसे उगाएँ | Garlic in hindi

लहसुन की बात करें तो इसका उपयोग हर तरह के भोजन में किया जाता है, चाहें वो नॉनवेज हो या फिर वेज। कहने का तात्पर्य यह है कि लहसुन का इस्तेमाल जब तक खाने में नहीं होता तब तक उसमें स्वाद नहीं आता।

सब्जी में स्वाद बढ़ाने के लिए हर महत्वपूर्ण चीजों में से एक लहसुन भी होता है। अगर आप भी अपने हर खाने में लहसुन का इस्तेमाल करते हैं, तो आप चाहें तो अपने घर में ही लहसुन उगा कर बिना किसी खर्ज के सालो साल तक लहसुन का इस्तेमाल अपने खाने में कर सकते हैं।

Garlic in hindi

अपने घर में लहसुन उगाने की प्रक्रिया ?

यदि आप भी अपने घर में ही लहसुन उगाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको नीचे दिए गए सभी चरणबद्ध तरीके को अपनाने की आवश्यकता होगी। क्योंकि नीचे दिए गए सभी चरणबद्ध तरीके को फॉलो कर आप बड़ी सरलता से अपने घर पर ही लहसुन उगा सकते हैं।

अपने घर में लहसुन उगाने के लिए आपको सबसे पहले लहसुन के बीज को बगैर सीले अलग करने की आवश्यकता होती है। उसके बाद आप गमले में मिट्टी भरकर उसे कुछ घंटों के लिए छोड़ दीजिए। यदि आप ऐसा करते हैं तो इससे आपकी मिट्टी नरम हो जाता है। और यदि आपका मिट्टी नरम हो जाता है तो इसमें लहसुन का पौधा बड़ी सरलता से निकलता है। लास्ट में फिर आपको मिट्टी में 3 से 4 इंच भीतर लहसुन के बीज को डालकर उसे मिट्टी से ढकने की आवश्यकता पड़ती है। फिर आप मिट्टी को अच्छे से दबा दे।

लहसुन उगाने में खाद्य का इस्तेमाल ?

आपको मिट्टी में बीज लगाने से पहले खाद को बेहतर ढंग से मिश्रण करने की जरूरत होगी। जब आप मिट्टी में बीज लाएंगे तब आपको ऊपर से थोड़ा मोड़ा खाद छिटने की आवश्यकता होगी। खाद हमेशा रसायन नहीं होता इस पर आपको अधिक ध्यान देने की आवश्यकता होगी।

लहसुन उगाने के लिए आपको हमेशा जैविक खाद और कंपोस्ट खाद का ही उयोग करना चाहिए। आपको ध्यान देने वाली बात यह है की आप एक बार में केवल एक ही लहसुन की कली को लगाए।

Garlic in hindi

मौसम पर भी ध्यान देने की आवश्यकता ?

यदि आप लहसुन उगाने के बारे में सोच रहे हैं तो उसके लिए आपको मौसम पर भी ध्यान देना होगा। लहसुन लगाने के लिए आपको हमेशा हल्के ठंड वाली सीजन का चुनाव करना होता है।

यदि आप हल्के ठंड वाले सीजन में लहसुन उगाते हैं, तो आपको इससे अच्छा रिजल्ट प्राप्त हो सकता है। जानकारी के मुताबिक अधिक ठंडे वाले दिन में लहसुन के पौधे नहीं लगाए जाते हैं। क्योंकि इस सीजन में लहसुन के पौधे खराब हो जाते हैं।

पानी का उपयोग जरूरत के मुताबिक ?

देखा जाए तो जब आप हमारे बताए गए सभी प्रक्रिया को फॉलो करते हुए अपने गमले में लहसुन के बीज को सही ढंग से लगा देंगे तब आपको उसमें एक से दो जग पानी डालने की आवश्यकता होगी। या यह कह सकते हैं कि आप हमेशा वक्त वक्त पर गमले में पानी देते रहें। जब बीज से पौधा निकलना शुरू हो जाए तब आपको एक बार फिर से उसमें थोड़ा सा खाद छिटने की आवश्यकता होती है।

Garlic in hindi

 

लहसुन की देखरेख कैसे करें ?

जैसा कि मैंने आपको पहले भी बताया है कि लहसुन को उगाने में अधिक पानी डालने की आवश्यकता होती है और इसके साथ ही साथ आप लहसुन को ऐसी जगह पर लगाएं जहां धूप आती हो।

इसलिए तो आपको अपने लहसुन के गमले को कहीं धूप आने वाली जगह पर रखना चाहिए। गमले के मिट्टी को हमेशा नरम बनाए रखने के लिए आपको इसमें टाइम टेबल से पानी डालने की आवश्यकता पड़ती है।

लेकिन आपको इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि इसमें ज्यादा पानी भी ना डालें यदि आपने अपने गमले में अधिक पानी डाल दिया तो उसमें अनेकों बीमारी होने का भी खतरा हो सकता है। इसलिए आप गमले में उतना ही पानी डाले जितने पानी की आवश्यकता है।

Garlic in hindi

कीट फंगस से करना होगा बचाव 

जब आप अपने गमले में लहसुन के पौधे को लगाए तब से आपको उसकी पूरी देखरेख करनी होती है। आपको यह ध्यान देना होता है की आप के पौधे में कीट या फिर फंगस न लग जाए।

मान लीजिए यदि आप के पौधे में कीट या फंगस लग जाए तब आपको 15,15 दिन के बीच में उस में दवा का छिड़काव करना भी बहुत जरूरी होता है।

दवा नहीं तो आप कीट और फंगस हटाने के लिए घर में ही नींबू का घोल बना कर इसमें छिड़काव कर दे ऐसा करने से आपका पौधा बिल्कुल सुरक्षित हो जाएगा।

कितने दिन में तैयार होता है लहसुन ?

देखा जाए तो लहसुन के पौधे काफी जल्दी रेडी हो जाते हैं। लहसुन के पौधे दो से तीन महीने में बिल्कुल रेडी हो जाते हैं। इस प्रकार आप हमारे बताए गए तरीकों के माध्यम से घर बैठे बड़ी सरलता से लहसुन उगा कर इसके लाभ उठा सकते हैं।

परंतु आपको लहसुन उगाने के लिए हमारे दिए गए जानकारी को हमेशा ध्यान में रखने की आवश्यकता होती है।

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमे कमेन्ट करके जरूर बताएं , और नीचे दिये गए like बटन को जरूर दबाएँ , ऐसे ही पेड़-पौधों और गार्डेन से जुड़ी रोचक और उपयोगी जानकारी के लिए hindigarden.com से जुड़े रहें , धन्यवाद ।

Happy Gardening..

Leave a Comment