अगर अच्छा गार्डेनर बनना है तो ये जरूर जान लें | प्रूनिंग क्या है |What is Pruning in Hindi

पौधे या पेड़ के किसी भाग (पौधे की टहनी,कली,पत्ती,फल/फूल और जड़ें शामिल हो सकती हैं) को चुन कर हटाना Pruning कहलाता है। पर प्रूनिंग क्या है यह बात बहुत लोग नहीं जानते हैं ।

Pruning के अंतर्गत पौधे के किसी स्वस्थ भाग , खराब हो रहे भाग या पूरी तरीके से खराब हो चुके भाग को हटाया जा सकता है ।यह कोमल तना वाले पौधों और बड़े पेड़ों दोनों के साथ किया जाता है ।

सही जानकारी और अनुभव के अभाव मे हम अक्सर pruning पर ध्यान नहीं देते हैं जबकि यह पौधे और हमारे गार्डेनिंग स्किल का एक बहुत बड़ा पार्ट है ।

एक सही तरीके से किए गए pruning और गलत तरीके से किए गए pruning से पौधे के आकार , foliage , फूलों की संख्या , आकार पर बहुत बड़ा असर पड़ सकता है ।

Pruning क्यों जरूरी है

जिस प्रकार हमें पौधों के लिए अच्छी और rich मिट्टी चाहिए , रोशनी चाहिए , जरूरी पोषक तत्व चाहिए वैसे ही pruning भी पौधों के लिए बहुत जरूरी है । पृनिंग पौधे को उकसाते हैं नई ग्रोथ के लिए ; सही तरीके और सही समय पर की गई pruning से आपको बहुत ही शानदार रिज़ल्ट मिलते हैं ।

pruning in hindi
प्रूनिंग के बाद आसपास से निकलती नई शाखाएँ

पर प्रूनिंग के पहले थोड़ी जानकारी इकट्ठी कर लें तो बहुत अच्छा रहेगा , बिना जानकारी के प्रूनिंग करने से बचना चाहिए , आज यहाँ दी जा रही जानकारी आपके गार्डेन के लिए काफी हेल्पफूल साबित हो सकती है ।

क्या pruning पौधों पर अत्याचार है

कई बार ऐसा कहा जाता है कि पौधों को अपने हिसाब से बढ़ते देते रहना चाहिए , उनको अपने हिसाब से control करना पौधों के साथ अत्याचार है , क्या यह बात सही है ?

हमे यह समझना होगा कि गार्डेनिंग एक कला है और ornamental element के बिना यह अधूरा है , उसी को पूर्ण करने के लिए pruning जरूरी है ताकि हम pot मे लगे पौधे , बॉर्डर बुश और hedges आदि मे एक सुंदर symmetry बना सके ।

गार्डेन कोई जंगल नहीं है यह हमे समझना होगा , गार्डेन कि सीमित जगह मे कौन सा पढ़ा या पेड़ कितनी जगह ले इसके लिए उसे सही शेप मे रहना बहुत जरूरी है ।

इसके अलावा फूल वाले पौधों मे नई growth के लिए सही समय पर pruning करने से आप अलग रिज़ल्ट प सकते हैं ।

गार्डेनिंग के लिए जरूरी चीजें

Watering Canehttps://amzn.to/3gAeQeE
Cocopeathttps://amzn.to/2Ww7MJb
Neem Oilhttps://amzn.to/3B9yUMI
Seaweed Fertilizerhttps://amzn.to/3gy48Fq
Epsom Salthttps://amzn.to/3mwYWFT

प्रूनिंग कब करना चाहिए

अलग अलग पौधे के लिए अलग अलग समय हो सकता है जब उनकी प्रूनिंग की जाए ।

पौधे के dormant पीरियड मे प्रूनिंग किया जाना अच्छा रहता है , इससे पौधे को नई growth के लिए पर्याप्त समय मिल जाता है ।

फूलों वाली झड़ियों पर फूल सूखने के बाद प्रूनिंग किया जाना चाहिए ताकि नए फूल सही समय पर फिर से आ सकें ।

हर पेड़ , पौधे के बारे मे अलग से रिसर्च करके जानकारी इकठ्ठा किया जा सकता है , उनको डायरी मे नोट करके रख लें और सही समय पर प्रूनिंग कर सकते हैं ।

प्रूनिंग के प्रकार

प्रूनिंग दो प्रकार से की जाती है , हार्ड प्रूनिंग और सॉफ्ट प्रूनिंग –

Hard Pruning

जब पेड़ या पौधे के मुख्य तने या उसके आगे के तने काट दिये जाते हैं जिसके बाद पेड़ या पौधा बिलकुल bald सा दिखने लगता है उसे Hard Pruning कहते हैं । इसमे लगभग सभी पट्टियाँ और टहनियाँ गायब हो जाती हैं ।

Hard Pruning साल मे एक बार ही करना चाहिए । इसको कभी भी ऐसे ही नहीं कर देना चाहिए पूरी planning के बाद ही करें हार्ड प्रूनिंग । अक्टूबर और फरवरी प्रूनिंग के लिए सही रहता है ।

Pruning in Hindi
इस हिबिस्कस पर हार्ड और सॉफ्ट पृनिंग एक साथ की गई है

पेड़ या पौधे का growing season पता कर लें क्यूंकी हार्ड प्रूनिंग पौधे के ग्रोविंग सीजन के ठीक पहले ही करना चाहिए , बीच मे नहीं करना चाहिए ।

हार्ड प्रूनिंग सभी पौधे की नहीं की जाती है , जैसे आप एरेका पाम , जीजी प्लांट , अस्परागस , स्नेक प्लांट , सींगोनियम आदि की प्रूनिंग नहीं कर सकते । प्रूनिंग हम तने वाले पेड़ और पौधों पर ही कर सकते हैं ।

घर मे लगे पौधों मे तुलसी , हिबिस्कस , गुलाब , रबर प्लांट , बोगेनविला , फाइकस आदि की हार्ड प्रूनिंग आप कर सकते हैं ।

व्यावसायिक रूप से जो लोग आम , अमरूद, शहतूत , आवंला आदि उगाते हैं वो इन पौधों की विशेषज्ञों की सलाह पर हार्ड प्रूनिंग करते रहते हैं। 

pruning in hindi
बड़े पेड़ो को भी नए शेप और अच्छी ग्रोथ के लिए prune किया जाता है

Soft Pruning

जैसा की सॉफ्ट प्रूनिंग नाम से ही समझ आ रहा है कि पेड़ या पौधे की सॉफ्ट तरीके से प्रूनिंग करनी है यानि ज्यादा काँट छांट नहीं करनी है , बस टिप आदि पर कुछ इंच तक ट्रिम करने को सॉफ्ट प्रूनिंग कहते हैं ।

सॉफ्ट प्रूनिंग कभी भी कर सकते हैं और नए gardeners को पहले सॉफ्ट प्रूनिंग ही सीखना चाहिए बाद मे किसी पौधे पर हार्ड प्रूनिंग ट्राई करना चाहिए , कई लोग गलत तरीके या गलत समय पर हार्ड प्रूनिंग कर देते हैं जिससे उनके पौधे मर जाते हैं ।

pruning in hindi
पार्क इत्यादि में पौधो को एक खास मे शेप मे देने के लिए नियमित रूप से सॉफ्ट प्रूनिंग की जाती है

बोगेनविला के फूल जब सूखने लगते हैं उनके फूलों को हटा दें और 1-2 इंच तक tips को prune कर दें इससे नए फूल कुछ दिन बाद फिर से आ जाएंगे । ऐसे ही अन्य पौधों पर किया जा सकता है ।

इसके अलावा सूखे और खराब पत्तों व टहनियों को हटाना भी प्रूनिंग कहलाता है , जिसे आप कभी भी कर सकते हैं ; चाहे तो आप weekly routine भी बना सकते हैं साथ घर के बच्चो को भी इसमें शामिल कर सकते हैं ताकि वह भी गार्डेनिंग सीख सकें ।

गार्डेनिंग के लिए जरूरी चीजें

Hand Gloveshttps://amzn.to/3zlKN1O
Trowel (खुरपी(https://amzn.to/38dnE5x
Hand Prunerhttps://amzn.to/3kpeicF
Garden Scissorshttps://amzn.to/38kA0J6
Spray Bottlehttps://amzn.to/2UQ7hch

प्रूनिंग के बाद खाद

जब भी आप किसी पेड़ या पौधे की प्रूनिंग करें तो उसके बाद उसमें खाद जरूर दें ।

खाद हल्की और सामान्य मात्रा मे देना होता है , खाद मे गोबर की खाद या वरमी कम्पोस्ट ही दें ।

गमले की मिट्टी की गुड़ाई करके 2-3 मुट्ठी उसमे मिलकर अच्छे से मिला दें और सिंचाई कर दें ।

किसी भी तरह के केमिकल या तेज़ खाद जैसे सरसों खली आदि का प्रयोग न करें ।

प्रूनिंग के औज़ार

पत्तियों और टहनियों को काटने के लिए अच्छे क्वालिटी के pruners ले सकते हैं आप जो 200-250 तक मिल जाते हैं ।

pruning in hindi
होम गार्डेन के लिए प्लांट प्रूनर या कैंची का इस्तेमाल किया जाता है

पेड़ों को काटने के लिए pruning saw का प्रयोग किया जाता है ।

झाड़ियों को काटने के लिए hedge cutter बाज़ार मे उपलब्ध हैं ।

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमे कमेन्ट करके जरूर बताएं , और नीचे दिये गए like बटन को जरूर दबाएँ , ऐसे ही पेड़-पौधों और गार्डेन से जुड़ी रोचक और उपयोगी जानकारी के लिए hindigarden.com से जुड़े रहें , धन्यवाद ।

Happy Gardening..

Leave a Comment