खुद से शिमला मिर्च घर पर कैसे उगाएँ | Capsicum care in Hindi

शिमला मिर्च अन्य जीतने भी मिर्च पाये जाते हैं उनमे सबसे कम तीखी होती है इसलिए जहां बाकी मिर्च का प्रयोग सब्जी या पकवान को तीखा करने के लिए किया जाता है वहीं शिमला मिर्च की सब्जी और अन्य पकवान बनाए जाते हैं ।

Capsicum सबसे आसानी से और कम केयर के साथ लगाई जा सक्ने वाली सब्जियों मे से एक है ।शिमला मिर्च घर पर खुद उगाये और इस मौसम मे ताज़ी रंग बिरंगी शिमला मिर्च से तरह-तरह की सब्ज़ी खुद ही बनाएँ ।

हरे , लाल ,पीले आदि रंगों मे पायी जाने वाली शिमला मिर्च का पूरा परिचय , साथ ही इसे लगाने के सभी तरीके जिससे आप इसे आज ही अपने घर में लगा लें और बाज़ार की महंगी और रसायन युक्त शिमला मिर्च  खरीदेने से बच जाए ।

शिमला मिर्च Capsicum in Hindi

वानस्पतिक नामCapsicum annuum
बुवाई विधि –प्रत्यक्ष यानि direct बीज से भी लगा सकते हैं
बुवाई की गहराई (इंच)0.5 इंच
बुवाई दूरी (इंच / फीट)बीज से बीच – 1 फीट, पंक्तियों के बीच – 4 फीट
परिपक्वता के दिन55-60 दिन
बीज कहाँ से लेंबीज भंडार / online order

शिमला मिर्च का परिचय और इतिहास

विटामिन A, C और E से भरपूर शिमला मिर्च या chili peppers सबसे पहले अमेरिका मे लगभग 9 -10 हज़ार साल पहले लोगों ने लगाना शुरू किया और 15वी शताब्दी मे वहाँ से कोलंबस के द्वारा यूरोप पहुंचा ; और फिर यूरोप से बाकी दुनिया में ।

लैटिन शंब्द capsa , जिसका अर्थ box होता है , से capsicum बना क्यूंकी इसका seedpod एक बॉक्स जैसा बन जाता है जिसमे बीज रहते हैं ।

वैसे हर तरह की मिर्च जीनस capsicum के अंतर्गत ही आता है , चाहे वह लंबी हरी मिर्च हो या फिर गोल तीखी मिर्च या फिर शिमला मिर्च ; भारत मे पायी जाने वाली काली मिर्च capsicum से भिन्न है और यह जीनस pepper के अंतर्गत आता है ।

capsicum care in hindi

कब लगाना है – जलवायु

शिमला मिर्च की खेती के लिए नर्म आर्द्र जलवायु सबसे उपयुक्त है। पौधों के विकास के लिए 21 से 25 डिग्री सेल्सियस तापमान होना चाहिए।

शिमला मिर्च के बीज 18 से 35 डिग्री C के बीच अच्छे से germinate होते हैं । उत्तर भारत मे गर्मियों मे लगाना सही है जबकि दक्षिण भारत मे पूरे साल किसी भी समय लगाया जा सकता है ।

ठंड अधिक होने पर पौधों में फूल कम लगते हैं और फलों का आकार भी छोटा और टेढ़ा-मेढ़ा हो जाता है।

अधिक तापमान में भी फूल झड़ने लगते हैं। पैदावार पर इसका प्रतिकूल असर होता है।

बीज कहाँ से लें

बाजार में देसी और हाइब्रिड दोनों तरह के बीज मिलते हैं , अच्छी और आसान पैदावार के लिए Hybrid बीज ही ज्यादा सही रहेगा क्यूंकी इनमें रोग नहीं लगते हैं और Container में उगाने के लिए ये बेस्ट हैं ।

अपने शहर के बीज भंडार या किसी नर्सरी से भी आप शिमला मिर्च के बीज खरीद के ला सकते हैं ।

Online भी अच्छे किस्म के हाइब्रिड बीज खरीद सकते हैं जिनका अंकुरण ज्यादा अच्छी तरह से और सफलता का प्रतिशत ज्यादा रहता है ।

आप चाहे तो बाज़ार से लाई गई शिमला मिर्च से भी नया पौधा बना सकते हैं , इसके लिए उसके अंदर माजूद बीज को ही फिरसे यूज़ करना होगा ।

capsicum care in hindi

मिट्टी कैसी तैयार करना है  

इसकी खेती के लिए चिकनी दोमट मिट्टी सबसे उपयुक्त है। बलुई दोमट मिट्टी में खेती करने पर अधिक खाद की आवश्यकता होती है।

मिट्टी , कम्पोस्ट और रेत को निम्न अनुपात मे मिलाकर potting mix तैयार कर सकते हैं –

गार्डेन soil    50%

कम्पोस्ट     30 %

नदी की रेत   20 %

अगर छत पर कम वजन रखना चाहते हैं तो 40 % कोकोपीट , 30 % गार्डेन Soil और 30% वर्मी कम्पोस्ट से मिश्रण तैयार कर सकते हैं ।

वर्मी कम्पोस्ट और गोबर की खाद दोनों में से जो उपलब्ध हो उसका प्रयोग किया जा सकता है , ध्यान रहे जब गोबर की खाद प्रयोग करें तो वह कम से कम 2 साल की सदी हुई होनी चाहिए जो काले रंग की बिलकुल भुरभुरी हो जाती है ।

किसी भी तरह के Potting Mix में 2-3 मुट्ठी लकड़ी की राख़ मिला देने से कीड़े या फंगस नहीं लगते हैं । इसके साथ ही अगर आप Potting Mix को 2-3 दिन बहुत तेज़ धूप में रख दिया जाए तो भी वह Sanitize हो जाता है , आप सुविधानुसार कोई भी प्रक्रिया अपना सकते हैं ।

गमले का साइज़

शिमला मिर्च  उगाने के लिए बड़े आकार का ही कंटेनर लें क्यूंकी शिमला मिर्च  की जड़ें काफी ज्यादा फैलती हैं । सब्जी मंडी में मिलने वाली प्लास्टिक का कैरेट (14 x 21 x 15 इंच) इसके लिए बहुत अच्छा रहता है

बड़े आकार का गमला , ड्रम या पेंट की बाल्टी जो भी प्रयोग करें उसमें 3-4 holes जरूर कर लें जिससे  अनावश्यक पानी बाहर निकल जाया करे । गमले में पानी रुकने से पौधे के मरने का खतरा बना रहता है ।

capsicum care in hindi

शिमला मिर्च की बुआई करने का तरीका

शिमला मिर्च  को आप Direct जमीन या container में बो कर उगा सकते हैं , या फिर seedlings तैयार करके बाद में उन्हें transplant करना भी अच्छा तरीका है ।

Seedlings कैसे तैयार करें

8 से 10 बीज 24 घंटे तक पानी में भिगो कर रख दें इससे इनके germinate होने के chances काफी बढ़ जाएंगे ।

Seedlings तैयार करने के लिए जिस मीडियम की जरूरत होगी उसको तैयार करने के लिए आप कोकोपीट 60 % , वर्मी कम्पोस्ट 30 % , परलाइट/रेत 20 % को आपस में मिला सकते हैं ।

इस मिश्रण को सीडलिंग ट्रे में भर दीजिये और उसमें बीज बो दीजिये ; बीज को आधा इंच (1-2 सेमी) ही लगाना सही होगा क्यूंकी ज्यादा अंदर लगाने से germination लेट होगा या फिर बीज मर जाएगा ।

अब ट्रे को छायादार जगह पर रख दें और पानी का छिड़काव कर दें , नमी हमेशा बना कर रखें मिट्टी सूखने न पाये । अगले 10 से 15 दिन में ज़्यादातर बीज germinate हो जाएंगे तब इसे आप हल्की धूप वाली जगह पर रख सकते हैं ।

15 से 20 दिन बाद इनमें 3-4 पत्तियाँ आ जाने पर आप इन्हें Container में transplant कर सकते हैं । अगर क्यारी मे लगाना है तो पौधों के बीच मे 12 से 15 इंच का गैप होना चाहिए ।

capsicum care in hindi

शिमला मिर्च की देखभाल कैसे करें

धूप Sunlight

शिमला मिर्च की अच्छी growth के लिए 4 से 5 घंटे की Sunlight बहुत आवश्यक है । अगर आपके पास कोई ऐसी जगह है जहां अच्छी धूप आती हो और shade भी हो तो बहुत अच्छा है ।

पानी Water

मिट्टी की ऊपरी सतह चेक करते रहे जब भी सतह सूखी लगे तब पानी देते रहिए । रोज पानी देने की आवश्यकता नहीं है , जितनी जरूरत हो उतना ही पानी दीजिये ।

ज्यादा पानी देना शिमला मिर्च  को नुकसान पहुंचा सकता है इसलिए यह जरूर ध्यान रखें की एक्सट्रा पानी holes से जरूर निकल जाए ।

खाद Manures

शिमला मिर्च  के लिए अलग से खाद देने की कोई खास आवश्यकता नहीं यदि आपने Potting Mix मे 30-40% खाद मिला लिया हो ।

नए पौध को क्यारी , गमले या ग्रो बैग मे ट्रांसप्लांट करने के बाद थोड़ी मात्र seaweed fertilizer , कम्पोस्ट आदि की liquid रूप मे देने से पौधे को नयी जगह settle होने मे सहायता मिलेगी ।

कीट रोग से बचाव

शिमला मिर्च मे रोग लगने का खतरा बना रहता है इसलिए शिमला मिर्च के साथ आपको विशेष सावधानी बरतनी होगी ।

पौधे पर लगे कीटों को हटाने के लिए आप ब्रश का इस्तेमाल कर सकते हैं , या फिर साबुन का घोल स्प्रे कर सकते हैं ।

15-20 दिन पर नीम तेल का छिड़काव करना भी पौधों को कीट आदि से बचाता है ।

ज्यादा शिमला मिर्च पाने के टिप्स

ज्यादा शिमला मिर्च पाने के लिए आजकल किसान भी 3 G कटिंग तकनीकी का प्रयोग कर रहे हैं ।

इसके लिए जब पौधा 1 फीट (1G) का हो जाए तब उसके टिप यानि आगे का छोर जहां से वह वृद्धि कर रहा है उसे काट दीजिये इससे यह होगा कि कुछ दिन बाद पत्तियों के पास के nodes से नयी शाखाएँ निकल आएंगी ।

अब ये नई शाखाएँ (2G) आधे फीट की हो जाए तो इनके टिप को भी काट दें जिससे 3G शाखाएँ निकलने लगेंगी ।

इससे पौधे में ज्यादा शाखाएँ बन जाएंगी और ज्यादा से ज्यादा फूल और फल आएंगे ।

हार्वेस्टिंग

अच्छी तरह से लगा एक स्वस्थ पौधा 55-60 दिन मे फल देने लगता है । एक शिमला मिर्च जब एक टेनिस बाल के बराबर हो जाए तो आप उसे तोड़ सकते हैं ।

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमे कमेन्ट करके जरूर बताएं , और नीचे दिये गए like बटन को जरूर दबाएँ , ऐसे ही पेड़-पौधों और गार्डेन से जुड़ी रोचक और उपयोगी जानकारी के लिए hindigarden.com से जुड़े रहें , धन्यवाद ।

Happy Gardening..

Leave a Comment