गुड़हल के फूल के फायदे और इसे लगाने के तरीके यहाँ से सीखें | Hibiscus Flower in Hindi

गुड़हल का फूल देखने में काफी आकर्षक और सौंदर्य भरा होता है। गुड़हल का फूल केवल देखने में सौंदर्य भरा नहीं होता है बल्कि इस फूल के कई तरह के लाभ हैं। Hibiscus Flower in Hindi

आज हम आपको अपने आर्टिकल के माध्यम से गुड़हल का फूल कैसे लगाएं ? गुड़हल के फूल का देखरेख कैसे करें ? इत्यादि से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी देने वाले हैं। ताकि, आपको गुड़हल का फूल लगाने में किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होगी।

गुड़हल फूल के इस्तेमाल 

प्राचीन काल से लेकर वर्तमान काल तक गुड़हल फूल का इस्तेमाल आयुर्वेदिक इलाज में किया जाता है। दोस्तों, जो नहीं जानते उन्हें यह जानकर थोड़ा अजीब लगेगा, लेकिन यह सत्य है की गुड़हल के फूल से चाय भी बनाया जाता है।

Hibiscus Flower in Hindi
गुडहल का पौधा

डॉक्टर्स की माने तो हेल्थ के लिए गुड़हल की चाय काफी लाभदायक सिद्ध हो सकता है। इस फूल की विभिन्न प्रजातियों में विभिन्न रंग  पाए जाते है, इन्हें सुखाकर पीसकर इसका पाउडर निर्माण किया जाता है ताकि इसे मेडिसिन बनाने में उपयोग किया जा सके। तो आइए जानते हैं गुड़हल फूल के बारे में सभी महत्वपूर्ण डिटेल्स।

गुड़हल फूल के लाभ

हमारे शरीर के लिए सबसे महत्वपूर्ण क्या होता है सही मात्रा में आयरन जी हां हमारे शरीर में उचित मात्रा में आयरन का होना जरूरी है। और आयरन उचित मात्रा में गुड़हल के फूल में पाया जाता है।

आयरन की बात करें तो ये किसी व्यक्ति के शरीर में एनीमिया जैसी बीमारी होने से बचाता है।

इसके अलावा यह व्यक्ति के बॉडी में स्टेमिना को भी बढ़ाने में मददगार साबित होता है। एनीमिया जैसी बीमारी आयरन की कमी से ही होती है।

Hibiscus Flower in Hindi

आप चाहे तो 40 से 50 गुड़हल के फूल की छोटी छोटी कलियो को पीसकर कर उस में से उसका रस निकाल सकते हैं।

लेकिन ध्यान देने वाली बात यह है कि आपको इस रस को किसी बेहतर डब्बे में बंद करने की आवश्यकता होती है। आप जिस भी डब्बे में इस रस को रखेंगे ध्यान रहे उसमे हवा ना जा सके। क्योंकि यदि डब्बे में हवा गई तो रस पूरी तरह से खराब हो जाएगी और आपकी मेहनत मिट्टी में मिल जाएगी।

यदि आपको भी एनीमिया जैसी गंभीर बीमारी है तो आप इस रस को हर रोज दूध में मिलाकर पिएंगे तो आप इस बीमारी से जल्द ही छुटकारा पा सकते हैं।

कैसे उगाए गुड़हल के पौधे 

जैसे हम बाकियों के पौधे को उगाते हैं उसी प्रक्रिया को फॉलो कर हम गुड़हल के पौधे को भी उगा सकते हैं।

गुड़हल के पौधे दो तरीकों से उगा सकते हैं। पहला तरीका आप बीजों के माध्यम से इस पौधे को उगा सकते हैं। और दूसरा तरीका आप कटिंग के जरिए भी उगा सकते हैं।

कटिंग से गुड़हल को उगाना ही आसान और एक प्रचलित विधि है । कलम लगाने की कई विधियाँ हैं जो आप सीखकर कोई भी कटिंग लगा सकते हैं ।

इसकी कटिंग तो अगर आप पानी मे भी भिगो कर रख दें तो आसानी से लग जाती है ।

Hibiscus Flower in Hindi

इस पौधे की देखरेख कैसे करें

यदि आप गुड़हल के पौधे को घर के भीतर या बाहर उगाते हैं तो इसकी देखरेख करना काफी सरल होता है। आपको इसकी देखरेख करने के लिए विभिन्न बातों को ध्यान में रखने की आवश्यकता होती है।

धूप Sunlight

सबसे पहले तो आप जहां भी अपने पौधे को लगाएं वहां धूप आना चाहिए। यदि आप सर्दियों के मौसम में इसे घर के बाहर लगाएंगे जहां धूप आती हो तो आपका गुड़हल का पौधा मानसून के सीजन में भी बिलकुल सेफ रहेगा।

गुड़हल के पौधे को आप हमेशा धूप वाली जगह पर ही रखें, क्योंकि इस पौधे को यदि छाया में रखा जाए तो यह जल्दी बढ़ते नहीं है और फूल उगने नही है।

पानी Watering

गर्मी का सीजन चल रहा है और आपने गुड़हल के फूल को किसी गमले में रखा है तो आपको इस पौधे में प्रतिदिन पानी डालने की आवश्यकता होती है।

और वहीं यदि आपका पौधा काफी पुराना हो चुका है और आपने उसे घर के बाहर भूमि में उगाया है तो फिर आपको हर रोज पानी डालने की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

Hibiscus Flower in Hindi
गुड़हल फूल की वर्तिका

खाद Fertlizers

जब भी आपके पौधे में फूल आना शुरू हो जाता है तब आपको उसपर अधिक ध्यान रखने की आवश्यकता पड़ती है। क्योंकि जब फूल आने लगते हैं तब उसमें अधिक पोषण की जरूरत होती है।

इस समय इसे सल्फर और माइग्निशियम जैसे तत्वों की जरूरत पड़ती है इसलिए इस समय आप इसे एपसम साल्ट और सरसों खली का इस्तेमाल कर सकते हैं ऐसा करने से फूल अच्छे खिलते है।

मिट्टी Potting Soil

जो मिट्टी सबसे अधिक पानी सोखती हो आपको उसी मिट्टी में गुड़हल फूल को लगाने की आवश्यकता है। आप चाहे तो पौधो को लगाते वक्त उसमें नदी की रेत भी मिला सकते हैं। इस तरह बड़ी सरलता से आप गुड़हल फूल के पौधे को लगा सकते हैं।

एक अच्छा pottting मिक्स तैयार करने के लिए आप इसमे गार्डेन सॉइल , नदी की रेत और गोबर की खाद बराबर मात्रा मे मिला सकते हैं ।

गुड़हल फूल से इन बातों पर सावधानी बरतें  

दोस्तों, जैसे हर चीज की यदि लाभ होती हैं तो दूसरी तरफ उसकी हानी भी होती है। ठीक ऐसे ही यदि मैंने आपको गुड़हल फूल के लाभ के बारे में बताया तो इसके हानि के बारे में भी जरूर बताएंगे। जो कि कुछ इस प्रकार है :-

  • यदि आपको गुड़हल फूल के चाय का सेवन करने से अधिक नींद आती हैं, तो आप इस चाय का सेवन ना करें।
  • यदि आप या कोई भी महिला गर्भ धारण की है तो वो भी इस चाय का सेवन नहीं कर सकती। क्योंकि गर्भवती महिलाओं के सेहत के लिए ये चाय हानीकरण हो सकता है।
  • यदि आप कही जाने से पहले इस चाय का सेवन करते हैं, तो ये आपके लिए नुक्सानदायक हो सकता है। कही भी जाने से पहले इसका सेवन ना करें।

Hibiscus Flower in Hindi

  • देखा जाए तो महिलाओं को इस चाय से सतर्कता बरतनी चाहिए क्योंकि ये सबसे ज्यादा महिलाओं को ही हानि पहुंचती है।
  • हार्डप्रेसर जैसी समस्या को गुड़हल फूल के चाय का सेवन कर इसे कम कर सकते हैं। यदि आपको कोई बीमारी नही है तो आप इस चाय का सेवन ना करें। क्योंकि इसका सेवन करने से आपका रक्त अधिक कम और चाप हो सकता है। इस वजह से आपको काफी परेशानी भी हो सकता है।

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमे कमेन्ट करके जरूर बताएं , और नीचे दिये गए like बटन को जरूर दबाएँ , ऐसे ही पेड़-पौधों और गार्डेन से जुड़ी रोचक और उपयोगी जानकारी के लिए hindigarden.com से जुड़े रहें , धन्यवाद ।

Happy Gardening..

Leave a Comment