क्या आपने चिया सीड आपने देखा है | Chia Seed in Hindi

Chia seed in Hindi

चिया के बीजों (Chia seed)  का नाम आपने कभी जरूर सुना होगा। आज हम आपको अपने इस Article में चिया बीज के बारे में बताने जा रहे हैं। चिया के बीज हमारे शरीर के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं इसलिए भारत में भी इसकी मांग बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है।  Chia seed in Hindi

किस तरह के होते हैं चिया के बीज Chia seed in Hindi

यह बहुत छोटे आकार में काले रंग के होते हैं। खाने में इनका स्वाद अखरोट की तरह होता है। हिन्दी में चिया का अर्थ ‘ताकत’ होता है, जो कि खाने के बाद आपके शरीर में ऊर्जा देने का काम करते है। यही वजह है कि आज इसका सेवन करना लोग खूब पसंद करते हैं। आपको बता दें कि चिया के पौधे सबसे ज्यादा मैक्सिको में उगाए जाते हैं।

चिया के बीज का सेवन कैसे करें?

इनका सेवन यदि आप सही तरीके से करते हैं, तभी यह आपके शरीर में ऊर्जा देने का काम करेगा। इसलिए जब भी आप चिया के बीज खरीदने जाएं तो इस बात को अच्छे से देख लें कि सभी बीज पूरी तरह काले रंग के होने चाहिए। भूरे रंग के चिया बीज अक्सर खराब गुणवत्ता के पाए जाते हैं। इन्हें आप ड्राई फ्रूट के स्टोर या दूसरे खाद्य पदार्थ के स्टोर से खरीद सकते हैं। हर जगह इनकी कीमत में अंतर पाया जाता है।

Chia Seed in Hindi

Buy on Amazon

कैसे करें सेवन

पहला तरीका- सबसे पहला तरीका है कि आप चिया के बीजों को एक रात के लिए पानी में भिगो कर रख दें। पानी में रखने से ये जैल की तरह हो जाएंगे। साथ ही स्वाद मे भी अच्छे हो जाएंगे। इसके बाद आप सुबह उठकर इस पानी को पी सकते है।

दूसरा तरीका- दूसरे तरीके में आप चिया के सभी बीजों को मिक्सी आदि में डालकर पीस सकते हैं। पीसने के बाद ये पाउडर बन जाएगा। इस पाउडर को आप किसी भी सब्जी या रसोई में बनने वाले पकवान में डालकर बना सकते हैं। इससे आप इसका सेवन भी कर लेंगे और आपका समय भी खराब नहीं होगा।

तीसरा तरीका- आप चाहें तो इसके बीजों का सेवन दही में मिलाकर भी कर सकते हैं। इस तरह खाने से भी आपको चिया के बीजों का पूरा लाभ मिलेगा।

चिया के बीज खाने का सही समय

आप  किसी भी समय खा सकते हैं। साथ ही आप इसका किसी भी रूप में सेवन कर सकते हैं। सभी तरह से ये आपके शरीर में पूरी ऊर्जा देगा। यदि आप सुबह योगा अभ्यास करते हैं या पार्क आदि में जाते हैं तो कोशिश करें घर से निकलने से पहले इसका सेवन कर लें। ये आपको शरीर को लंबे समय तक ऊर्जावान रखने में मदद करेगा। जिससे आप मेहनत करने के बाद भी नहीं थकेंगे।

Chia Seed in Hindi
शेक या पूडिंग मे मिलाकर उसे और अधिक पौष्टिक और स्वादिष्ट बनाए

चिया सीड्स कहाँ से लें

आप चिया सीड्स अपने एरिया के बढ़िया ग्रोसरी शॉप से ले सकते हैं , इसके अलावा online Chia Seed भी मंगा सकते हैं ।

चिया बीज के सेवन के फायदे

वजन कम करने मेंयदि आप बढ़ते वजन से परेशान हैं, तो आप चिया के बीज का सेवन प्रारंभ कर सकते हैं। आप एक गिलास पानी में दो चम्मच चिया बीज मिला दीजिए। इसके बाद इसे चम्मच से हिला कर पी लीजिए। इससे आपको लंबे समय तक भूख नहीं लगेगी। जो कि आपके वजन को कम करने में मदद करेगी।

कब्ज के मरीजों के लिएचिया के बीज कब्ज के मरीजों के लिए भी बेहद लाभदायक हैं। यह फाइबर से भरपूर होते हैं। इसलिए ये आपको मल त्याग करने में मदद करते हैं।

मधुमेह नियंत्रण करने मेंचिया के बीज में आपकी पाचन शाक्ति को धीमा करने की ताकत होती है। इसलिए यदि आप मधुमेह से परेशान हैं, तो भी आप इसका सेवन कर सकते हैं। ये आपके लिए लाभदायक होगा।

त्वचा कैंसर को रोकने मेंकुछ रिसर्च से पता चला है कि चिया के बीज त्वचा कैंसर को रोकने में भी मदद करता है। इसका सेवन त्वचा कैंसर से पीड़ित लोग भी कर सकते हैं। इस बीज के तेल में त्वचा के कैंसर या ब्रेन ट्यूमर को रोकने में भी मदद करता है।

हड्डियों के लिए भी है फायदेमंदचिया के बीज कैल्सियम से भरपूर होते हैं। यदि आप इसका सेवन करते हैं, तो आपकी हड्डी और दांत बेहद मजबूत रहेंगे। जो कि आपकी बढ़ती उम्र के साथ आपके लिए फायदेमंद साबित होंगे।

नींद की समस्या को दूर करने मेंयदि आप नींद की समस्या से गुजर रहे हैं, तो चिया के बीज आपकी समस्या को खत्म कर सकते हैं। चिया बीजों में ट्रिप्टोफैन पाया जाता है। जो कि आपकी अच्छी नींद के लिए उपयोगी होता है।

Chia Seed in Hindi
नाश्ते मे इसका प्रयोग बहुत फायदेमंद होता है

चिया बीज सेवन करने के नुकसान

एलर्जीचिया बीजों के अधिक सेवन से आपको एलर्जी की समस्या से सामना करना पड़ सकता है। इसमें आपको त्वचा, सांस लेने में समस्या, खुजली, दस्त आदि से परेशान होना पड़ सकता है।

कैंसर यदि आप प्रोटेस्ट कैंसर से पीड़ित है, तो चिया के बीजों का सेवन ना करें। ये आपके लिए नुकसान दायक है।

पेट की समस्याचिया बीज में फाइबर होता है। ऐसे में यदि आप चिया बीजों का ज्यादा सेवन करते हैं, तो आपको पेट की समस्या से गुजरना पड़ सकता है।

खून जमने की समस्यायदि आप पहले से कोई खून जमाने की दवाई ले रहे हैं, तो चिया बीज का सेवन ना करें। ये खून को जमने से रोकता है।

रक्तस्त्राव की समस्यायदि आपने हाल फिलहाल में कोई सर्जरी करवाई है, तो चिया के बीज का सेवन ना करें। ये आपकी रक्तस्त्राव की समस्या को बढ़ा सकता है।

चिया के बीज के लिए खेत कैसे तैयार करें

चिया के बीजों का यदि आप बड़ी मात्रा में उत्पादन चाहते हैं, तो जरूरत है कि बुआई से पहले अपने खेत को अच्छे से तैयार करें। खेत तैयार करने के लिए आप सबसे पहले मिट्टी पलटने वाले हल से इसकी जुताई करें।

इसके बाद आप कल्टीवेटर के जरिए दो तीन बार जुताई करके मिट्टी को बारीक कर लें। इसके बाद आप खेत में ‘पाटा’ लगाकर मिट्टी को समतल कर लें, ताकि खेत एक लेवल पर आ जाए। यदि खेत में उचित नमी है, तो आप पलेवा देकर बुआई कर सकते हैं।

कौन सी मिट्टी में करें चिया बीज की खेती

चिया बीज की खेती वैसे तो किसी भी मिट्टी में की जा सकती है। लेकिन हल्की भुरभुरी मिट्टी या रेतीली मिट्टी इसकी खेती के लिए सबसे उपयुक्त मानी जाती है। जबकि मध्यप्रदेश और राजस्थान में चिया की खेती के लिए सबसे उपयुक्त जलवायु क्षेत्र माना जाता है। यहां चिया की खेती सबसे ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकती है।

बुआई का सही समय

चिया के बीज की बुआई का सही समय अक्टूबर से नवंबर के बीच में माना जाता है। इस दौरान तापमान बहुत आधिक नहीं होता है। इससे चिया के बीजों को उगने में अच्छी मदद मिलती है। हालांकि, ज्यादा ठंड पड़ने से इसकी खेती में थोड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है।

बीज की मात्रा कितनी रखें

चिया के बीज आकार में बहुत छोटे और हल्के होते हैं। तो यदि आप इसकी बुआई एक हेक्टेयर क्षेत्र में करना चाहते हैं। तो चिया के 1 से 1.5 किलोग्राम बीज खरीद लीजिए। इसी हिसाब से आप जितने ज्यादा क्षेत्र में बुआई करना चाहते हैं, उतने बीज ले लीजिए।

कैसे करें चिया के बीज की बुआई

चिया के बीजों की बुआई धान, गेहूं की तरह छिड़काव विधि की तरह किया जाता है। लेकिन इसकी बुआई के लिए खेतों में पानी भरने की जरूरत नहीं पड़ती। केवल खेत में नमी मात्र रखनी होती है। साथ ही यदि आप इसकी बुआई लाइनों में करते हैं, तो और बेहतर उत्पादन ले सकते हैं।

यदि बीजों की बुआई के दौरान आपके खेत में नमी कम है, तो बुआई के उपरांत खेत में हल्की सिंचाई कर दें। ताकि बीज आसानी से उग सकें।

ध्यान रखने योग्य अन्य जरूरी बातें

चिया की फसल को समय समय पर पानी देने के साथ खरपतवार की भी निकालने की जरूरत पड़ती रहती है। साथ ही बीच बीच में निड़ाई-गुड़ाई भी करनी पड़ती है। ताकि खरपतवार को बढ़ने से रोका जा सके। बीच बीच में फसल को कीड़ों से बचाने के लिए कीटनाशक दवाई का छिड़काव भी कर देना चाहिए।

इसके बाद चिया की फसल 100 से 115 दिन में पक कर तैयार हो जाती है। पकने के बाद इसके पौधे को जड़ से उखाड़ लिया जाता है। उखाड़ने के बाद इसे सूखने के लिए चार-पांच दिन खेत में ही छोड़ दिया जाता है। सूखने के बाद इसे थ्रेसर से निकाल लिया जाता है। सही उत्पादन होने पर आप एक एकड़ फसल से 5 से 6 प्रति क्विंटल की उपज ले सकते हैं।

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमे कमेन्ट करके जरूर बताएं , और नीचे दिये गए like बटन को जरूर दबाएँ , ऐसे ही पेड़-पौधों और गार्डेन से जुड़ी रोचक और उपयोगी जानकारी के लिए hindigarden.com से जुड़े रहें , धन्यवाद ।

Happy Gardening..

writer: rohit yadav

Leave a Comment