बोन मील क्या है और पौधों के लिए यह क्यू जरूरी है | bone meal in hindi

अगर आप अपने घरों या बागानों में फूलों या फलों का पौधा लगाते हैं और आप के पौधे में किसी भी प्रकार की growth नहीं दिख रही है यानी पौधे में फूल नहीं आ रहे हैं या पत्ते न्यू नहीं निकल रहे हैं तो आप इस बोनमिल का प्रयोग कर सकते हैं जिसमें कई न्यूट्रिएंट्स होते हैं जो आपके पौधे को पूरी ग्रोथ देने के लिए लाभकारी साबित होते हैं तो आइए जानते हैं इस Bonemeal के बारे में संपूर्ण जानकारी ।

बोनमील क्या है | bone meal in hindi

Bone meal जैसे कि नाम से ही पता चलता है कि यह हड्डियों का चूर्ण होता है जिसे fertilizer बनाने के लिए कई मरे जानवरों या पंछियों के हड्डियों को उबालकर पीसकर तैयार किया जाता है ज़िसका उपयोग कई सारे पौधे में फूल या फल लगने की क्षमता को बढ़ाने और पौधों की पूरी growth देने के लिए किया जाता है तो आइए जानते हैं अब इनके फायदे-
bone meal in hindi

 Benefits of bonemeal in Hindi | बोनमिल के फायदे

Bonemeal हड्डियों का चूर्ण होता है जिसके कारण इसमें काफी अधिक मात्रा में फास्फोरस, कैल्शियम और प्रोटीन होता है इसके अलावा इसमें बहुत ही कम मात्रा में नाइट्रोजन होता है जिसके कारण इसके प्रयोग करने से पौधे के लिए फायदेमंद होता है

1. पौधे की जड़ों की मजबूती देने के लिए

 ऐसे कई पौधे होते हैं जिनमें कई कारणों की वजह से जड़े कमजोर व टूटने लगती है जिसके कारण पौधा मर भी जाता है लेकिन अगर आप ऐसे पौधे में bonemeal का प्रयोग करते हैं तो यह आपके पौधे की जड़ों को बढ़ाने के साथ मजबूती प्रदान करता है जो आपके पौधे के लिए काफी फायदेमंद होता है

2. पौधे में फूल लगने या बढ़ाने के लिए

अगर आप के पौधे में फूल नहीं आ रहे हैं या बहुत ही कम मात्रा में आ रहे हैं तो भी आप इस बोनमिल का प्रयोग कर सकते हैं यह बोनमिल आप के पौधे में फूल लगने की क्षमता को बढ़ा देता है जिससे आपके पौधे में फूल भर भर कर आते हैं और पौधे से फूल टूटते भी नहीं है

3. नई पत्तों एवं नई डंडियों के लिए

अगर आपके पौधे में नई पत्ते या डंडियों की नई branches नहीं आ रही है तो आप इस बोनमिल का प्रयोग अपने पौधे में कर सकते हैं जो आपके पौधे के पत्ते, डंडियों एवं पूरे पौधे की growth के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा

4. पौधे के तने को मजबूत बनाने के लिए

 अगर आप के पौधे बहुत ही कमजोर हैं उनकी तने बहुत नाजुक है तो आप इस बोनमिल का प्रयोग कर सकते हैं इसमें नाइट्रोजन बहुत कम और फास्फोरस काफी अधिक मात्रा में होता है जिसके कारण यह पौधे की तने एवं जड़ों को मजबूत बनाता है.
bone meal in hindi

5. कीड़े या फंगस दूर करने के लिए

अगर आप के पौधे में अधिक कीड़े या फंगस लगते हैं तो भी आप इस बोनमिल का प्रयोग कर सकते हैं इसके प्रयोग से पौधे में कीड़े या फंगस लगने की संभावना बहुत कम हो जाती हैं

6. जानवरों को रखे दूर

अगर आपके पौधे को कुत्ते या बिल्ली जैसे जानवर से नुकसान होता है तो भी आप इसका प्रयोग कर सकते हैं इसमें एक अजीब तरह की गंध निकलती है जो ऐसे जानवरों को पास आने से रोकती है

7. पौधे की पूरी ग्रोथ के लिए

 अगर आप चाहते हैं कि आप का पौधा हमेशा हरा भरा मजबूत अच्छे फूलों एवं अच्छे फूलों वाला बना रहे तो आप इस बोनमिल का प्रयोग अवश्य करें इसमें फास्फोरस, प्रोटीन और कैल्शियम होता है जो पौधे की overall हेल्थ के लिए काफी बेहतर होता है

Bonemeal का प्रयोग कैसे करें

Bonemeal का प्रयोग आप सर्दियों के मौसम में महीने में 3 बार और अन्य मौसम में डेढ़ से 2 महीने के बीच में कर सकते हैं
 बोनमिल पौधे में डालने के लिए सबसे पहले bonemeal powder लाये और दो से तीन चम्मच की मात्रा में पौधे की जड़ों में छिड़काव कर दें और फिर ऊपर से पानी का छिड़काव कर दें अब जब भी आप इस तरह से पानी का छिड़काव करेंगे तब यह धीरे-धीरे जड़ों में मिलता जाएगा और पौधों की जड़ों के मजबूती के साथ कई फायदे भी देगा

 bonemeal कहां से खरीदें

 बोनमिल खरीदने के लिए आप बहुत ही आसानी से किसी भी सीड्स दुकान या नर्सरी में भी खरीद सकते हैं इसके अलावा आप चाहे तो इसे online भी खरीद सकते हैं

 बोनमिल पाउडर में कीड़ा लगने पर क्या करें

 अगर आप अपने बोनमिल पाउडर को स्टोर करके रखे हैं और उसमें कीड़ा लग गया है तो घबराए नहीं इसमें थोड़ी सी नीम खली डालकर 1 दिन के धूप में सूखने के लिए छोड़ दें और अब इसके बाद आप bonemeal को पौधों में उपयोग कर सकते हैं

Bonemeal fertilizer के नुकसान

 ऐसे कई लोग हैं जो बताते हैं कि इसका ओवरडोज डालने से कोई भी साइड इफेक्ट नहीं होता है जबकि ऐसा नहीं है अगर आप Bonemeal fertilizer Overdose डालते हैं तो आपके मिट्टी के पीएच लेवल को एसिडिक की जगह एल्कलाइन भी कर सकता है जिससे आपके पौधे के पत्ते पीले भी हो सकते हैं लता जब भी आप Bonemeal fertilizer का उपयोग करें तो दो से तीन चम्मच से अधिक प्रयोग ना करें और एक बार प्रयोग करने के बाद डेढ़ से 2 महीने बाद ही प्रयोग करें।
bone meal in hindi

 घर पर Bonemeal powder कैसे बनाएं

1. Bonemeal पाउडर घर पर बनाने के लिए सबसे पहले 10 से 12 अंडे के छिलके को कलेक्ट करें क्योंकि इससे ही हम bonemeal पाउडर बनाने वाले हैं
2. सभी अंडर के छिलकों को अच्छे से धो कर एक दिन के धूप में सुखा लें
3. सुखाने के बाद इसे छोटे-छोटे टुकड़ों में करके अपने मिक्सर मशीन में डालकर बारीक चूर्ण बना लें
4. ध्यान रहे कि अच्छे से सभी टुकड़ों को बारिक चूर्ण बना ले क्योंकि अगर टुकड़ा रह गया तो उसमें चींटी लग सकती हैं
5.  पूरी तरह बारीक पाउडर बनाने के बाद आपका Bonemeal powder उपयोग के लिए तैयार है
6. इसे प्रयोग करने के लिए सबसे पहले पौधे की जड़ों के पास वाली मिट्टी को गुड़ाई करके उसमें दो से तीन चम्मच अंडों यानी Bonemeal powder को डालकर मिक्स कर दें
7. अब ऊपर से हल्के मात्रा में पानी का छिड़काव कर दें
8. इसे महीने में एक डाल सकते हैं
9. अगर इस बोनमिल पाउडर को डालने के बाद चींटी लगे तो उसमें नीम ऑयल डाल दें इससे चिट्ठीयाँ भाग जाएगी
20. इस बोनमिल पाउडर में भी कैल्शियम, फॉस्फोरस पोटेशियम और प्रोटीन काफी अच्छी मात्रा में होता है जो आपके पौधे के लिए काफी फायदेमंद होता है।

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमे कमेन्ट करके जरूर बताएं , ऐसे ही पेड़-पौधों और गार्डेन से जुड़ी रोचक और उपयोगी जानकारी के लिए hindigarden.com से जुड़े रहें , धन्यवाद ।

Happy Gardening..

Leave a Comment