सूरजमुखी के फूल की जानकारी | sunflower in hindi

अगर आप गार्डनिंग करते हैं या आपको अपने घरों में पौधे लगाने का शौक है, तो सूरजमुखी आपके गार्डनिंग की

शान और सुंदरता को चार चांद लगा सकता है। निसंकोच सूरजमुखी का फूल आपका फेवरेट भी होगा।  क्योंकि सूरजमुखी की सुंदरता और इसका खुद खिला फूल जो कि सूरज के समान चमकता  है वह घर की रौनक बढ़ा देता है और हमारे बगीचे की भी।

सूरजमुखी का पौधा sunflower in hindi

सूरजमुखी का पौधा जो कि सूरज के समान होता है। और इसका मुख सूरज की तरह चारों तरफ घूमता रहता है, यानी कि अगर हम साधारण भाषा में बात करें तो जिस तरीके से सूरज अपने मुख की प्रतिक्रिया दिखाता है, उसी तरीके से यह फूल भी सूरज के समान उसी दिशा की ओर चलता रहता है और इसीलिए इसका नाम सूरजमुखी रखा गया।

सूरजमुखी के फूल में कई सारे पोषक तत्व जैसे कि विटामिन बी, विटामिन बी3 विटामिन B6,  प्रोटीन और अन्य तरह के पोस्टिक तत्व मौजूद होते हैं और यह आयुर्वेद की दृष्टि से भी एक अच्छा पुष्प माना जाता है।

सूरजमुखी के पौधे को कैसे लगाएं

यह एक ऐसा प्रश्न है जो कि हर गार्डनिंग करने वाले या जिसको घर में फूल पौधे लगाने का शौक है उसके मन में आता ही है। क्योंकि ऐसे बहुत कम व्यक्ति हैं, जो कि सूरजमुखी के पौधों को लगाने की प्रक्रिया को सही से जानते हैं और अगर वह लगा भी पाते हैं, तो सूरजमुखी के पौधे को ज्यादा दिनों तक सुरक्षित नहीं रख पाते। तो आइए जानते हैं, वह कौन से चरण और सावधानियां है जिस को ध्यान में रखते हुए हमें सूरजमुखी के पौधे लगाने चाहिए।

  1. सूरजमुखी के पौधे की कटिंग करके

यह सबसे पहला और लेकिन थोड़ा सावधानी बरतने वाला तरीका है, जिसकी सहायता से सूरजमुखी के पौधे को उगा सकते हैं।

  • इसके लिए सबसे पहले हमें किसी सूरजमुखी के छोटे से पौधे में से एक तना निकालना होगा। ध्यान रहे कि आपको उसकी लंबाई 5 से लेकर 6 इंच के बीच में होनी चाहिए।
  • शाखा जितनी ज्यादा पुरानी और मजबूत होगी आपका सूरजमुखी का पुष्प उतना ज्यादा अच्छा होगा। आपको इस बात का विशेष रूप से ध्यान रखना होगा, कि आप जिस पौधे से कटिंग कर रहे हो उस पर किसी भी प्रकार का कोई फूल या अन्य कली ना लगी हो।
  • क्योंकि ऐसा कहा जाता है, कि जिस सूरजमुखी के पौधे पर कली और फूल नहीं लगे होते अगर हम उनसे कटिंग करके सूरजमुखी के पौधे की उपज करते हैं तो वह काफी तेजी से उठते हैं।
  • जब आप सूरजमुखी के छोटी सी टहनी की कटिंग कर लेते है तो अब उसको आपको थोड़ा सा तिरछा काटना है
  • काटी हुई कलम के नीचे की सभी पतियों को हटा देना है और जो ऊपर का भाग होगा उसमें आपको सभी प्रकार की कली और फूलों को हटा देना है मात्र 1 से 2 पत्तियों को वहां पर रहने देना है।
  • अब आपको गुणवत्ता वाली मिट्टी तैयार करनी है, जिसमें आप 50% कोकोपीट लगभग 25 से 26 परसेंट जैविक खाद और लगभग 25 से 30 परसेंट उसमें साधारण मिट्टी होनी चाहिए।
  • अब आपने जो कलम बनाई थी आपको छोटे से गमले में मिट्टी डालकर इस कलम को गुडो देना है और ऊपर से हल्का हल्का पानी का छिड़काव कर देना।
  • ध्यान रहे कि आपको इसे बाहर धूप में नहीं रखना है, किसी छायादार और हल्की धूप जाती हो वहां पर इसको रख देना है।
  • इसके बाद जब आप 1 से 2 हफ्ते बाद आकर अपने गमले को देखेंगे तो आप इसमें जड़ी निकलती हुई पाएंगे जिसमें कुछ पत्तियां भी निकल रही होंगी।
  • अब आप इसको हल्की धूप में 2 से 3 घंटे के लिए रख सकते हैं और जब यह पौधा थोड़ा बड़ा हो जाएगा तो आप इस पौधे के उठाकर धूप में रख सकते हैं और यह पौधा धूप के साथ-साथ धीरे-धीरे बड़ा होता रहेगा।

sunflower in hindi

  1. सूरजमुखी के पौधे का seed लगाकर

सूरजमुखी का पौधा लगाने की दूसरी प्रक्रिया है,सूरजमुखी के पौधे का बीच लगाकर ये हमारे लिए काफी ज्यादा सुविधाजनक साबित हो सकता है, क्योंकि इसमें हमें कलम लगाने की अपेक्षा काफी कम सावधानी बरतनी होती है। बीच लगा हुआ पौधा काफी आसानी से उग जाता है।

  • पहले आपको बाजार से जाकर सूरजमुखी के बीज को ले आना है। ध्यान रहे कि आपको मार्केट से ऐसे बीच को लेना है जो कि तरीके से सूखे हुए हो आप इसको कहीं भी बाजार से या किसी नर्सरी से लेकर आ सकते हैं।
  • फिर आपको एक गमला या कंटेनर लेना है, जिसके के निचले भाग में आपको जल की निकासी के लिए पेंसिल के बराबर एक छेद खोल देना है।
  • गमला जितना बड़ा होगा सूरजमुखी का फूल उतना ही ज्यादा अच्छे से ग्रो करेगा।
  • फिर आपको इन गमलों में अच्छी गुणवत्ता वाली मिट्टी जिसमें जैविक खाद, कोको पीट और साधारण मिट्टी हो सबको साथ मिलाकर उस गमले में सही से डाल देनी है।
  • उसके बाद आपको प्रत्येक 4 से 5 इंच की दूरी पर नर्सरी से लाए सूरजमुखी के बीज को बो देना है।
  • ध्यान दें कि आपको उन बीच को अपनी उंगली के माध्यम से धीरे-धीरे गदुना है, उसके ऊपर हल्की-हल्की मिट्टी डालकर पानी का छिड़काव कर देना है।
  • साथ ही आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि पानी का छिड़काव ज्यादा तेजी से ना हो इससे बीज बाहर आ सकते हैं।
  • बीज द्वारा बोए गए सूरजमुखी के पौधे को ज्यादा समय नहीं लगता। यह लगभग 1 से 2 हफ्ते के मध्य ही काफी जल्दी बड़े हो जाते हैं और सुंदर भी लगते हैं।
  • अब आप चाहें तो अपने सूरजमुखी के पौधे को गमले से निकाल कर बाहर जमीन में भी लगा सकते हैं।

सूरजमुखी के पौधा लगाने के लिए सावधानी

सूरजमुखी का पौधा लगाने के साथ-साथ यह भी जरूरी हो जाता है कि हमें कुछ सावधानियों का विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए।

  1. जब सूरजमुखी का पौधा लगाया जाता है तो हमें उसको तेज धूप में नहीं रखना चाहिए।
  2. पौधों को पानी देते समय हमें तेज धार वाले बर्तन का उपयोग नहीं करना चाहिए।
  3. पौधों को अधिक मात्रा में पानी नहीं देना चाहिए।
  4. जब बीज बोने के बाद या कलम लगाने के बाद उस पर फूल आ जाएं, तो आप इसको बाहर जमीन में लगा देना चाहिए।

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमे कमेन्ट करके जरूर बताएं , और नीचे दिये गए like बटन को जरूर दबाएँ , ऐसे ही पेड़-पौधों और गार्डेन से जुड़ी रोचक और उपयोगी जानकारी के लिए hindigarden.com से जुड़े रहें , धन्यवाद ।

Happy Gardening..

Leave a Comment