क्या आप के सकुलेंट्स भी घर लाते ही मुरझाने लगते हैं | Succulents Care in Hindi

पिछले कुछ सालों से Succulent Plants ने बागवानी के शौकिनों के बीच खास जगह बनाई है । अपनी खूबसूरती और Cuteness के कारण हर कोई इसे खरीद कर लाना चाहता है पर ‘ सकुलेंट्स की केयर कैसे करे ’ की जानकारी न होने के कारण हर किसी का Experience बहुत अच्छा नहीं रहता है । Succulents plants in Hindi

Succulents का परिचय

मूल निवास

यह खूबसूरत और cute पौधे दुनिया के अलग अलग क्षेत्रों और विभिन्न परिस्थितियों में प्रकृतिक रूप से पाये जाते हैं जो ज़्यादातर सूखे इलाके या रेगिस्तान हैं जिनमें अफ्रीका के इलाके तथा उत्तरी और दक्षिणी अमरीका के कई इलाके आते हैं ।

इसके अलावा कई पहाड़ी इलाके जैसे आल्प्स पर्वत के आसपास तथा Rain Forest में भी पाये जाते हैं । अभी बागवानी के तहत दुनिया के हर हिस्से में इन्हें उगाया जाता है ।

पौधों की विशेषता

सूखे जलवायु वाले इलाकों जैसे अफ्रीका आदि में कुछ पौधे के विशेष अंग मोटे fleshy से हो जाते हैं ताकि इनमें पानी स्टोर किया जा सके ।

Succulents पौधे की किसी प्रकार की किस्म या जाति नहीं है , यह पौधों की जलवायु और मौसम के कारण हुये विशेष बनावट के कारण यह नाम दिया जाता है । बहुत से अलग अलग species और family के पौधे सकुलेंट्स के अंतर्गत रखे जा सकते हैं ।

Succulents plants in Hindi

 

सकुलेंट्स कहाँ से खरीदें

आजकल सकुलेंट्स अच्छी नर्सरी पर मिल जाते हैं । ऑनलाइन भी खरीदा जा सकता है ।

कुछ पौधे जैसे एलोवेरा, स्नेक प्लांट , ज़ेड प्लांट्स आदि आसपास भी आसानी से मिल जाते हैं, आप चाहे तो इन्हें आसपास किसी से मांग सकते हैं ।

इसके अलावा जो पौधे ट्रेंड में है जैसे  Burro’s tail , Echeveria elegans , Fasciated haworthia तथा अन्य कई तरह के कैक्टस ऑनलाइन मंगाए जा सकते हैं पर कभी कभी transportation में कुछ पत्तियाँ टूट जाती हैं ।

मिट्टी कैसी तैयार करना है Best Soil for Succulents

Succulent plants के अच्छी देखभाल के लिए उसकी मिट्टी या Potting Soil का सही होना बहुत जरूरी है जो नमी को ज्यादा न रोके ।

चूंकि Succulent plants के मरने का सबसे बड़ा एक कारण overwatering है इसलिए हमे ऐसी मिट्टी तैयार करना होगा जिसमें Overwatering से बचाव का इंतजाम हो मतलब ऐसी मिट्टी जो Well-drained और Porous हो ।

इन 3 materials का इस्तेमाल एक अच्छे succulents mix के रूप में किया जा सकता है –

1॰ Well drained potting soil

2॰ Coarse Sand (मोटा बालू बिना छाना हुआ)

3॰ Perlite

Well drained potting soil से मतलब एक अच्छी container gardening soil से है । आप चाहे तो succulents and cactus potting mix online भी मँगवा सकते हैं जोकि इन पौधों के लिए बेस्ट होता है ।

यह भी पढ़ें : नया वेजिटेबिल गार्डेन बना रहे हैं तो यह जरूर पढ़ें

इसके अलावा आपको कहीं से Cinder या खंगर मिल जाए तो ये बहुत ही अच्छा potting मिक्स के रूप मे use हो सकता है ।

Succulents की केयर कैसे करें

कहते हैं पौधों की देखभाल अपने बच्चों की तरह करनी चाहिए और जब बात Succulents की आती है तो आप यह समझिए की आपको एक नन्हें बच्चे की देखभाल करनी है ।

आपके लिए यह बहुत जरूरी है कि पहला Succulent के घर में लाने के ही पहले आप इसकी देखभाल से संबन्धित सभी जानकारी इकठ्ठा कर लें क्यूंकी यह अक्सर देखा जाता है कि ज़्यादातर लोगों के Succulent Plants मर जाते हैं ।

धूप में ही रखें

सकुलेंट्स को धूप पसंद होती है और इसे कम से कम 6 घंटे की औसतन धूप की जरूरत होती है अलबत्ता यह पौधे की किस्म के अनुसार कम या ज्यादा हो सकता है लेकिन धूप मेन रखना जरूरी है , Indoor नहीं रख सकते इन पौधों को ।

अगर नया पौधा लगाया है तो हल्की या छायादार धूप मे रख सकते हैं कुछ दिन बाद खुले धूप मे रखें  ।

पौधे को घुमाते रहें

इन पौधों सूरज की धूप पसंद है और जब आप इसे कई दिनों या हफ्तों तक एक ही position में रखते हैं तो इसके एक ही भाग को सीधी धूप मिलती है जिससे दूसरे हिस्से को धूप न मिलने से growth अच्छी नहीं होगी ।

इसका पौधा सूरज की रोशनी की तरफ झुकने की प्रवृत्ति रखता है इसलिए भी घुमाते रहना अच्छी आदत है ताकि पौधा सीधा grow करे न कि एक तरफ को झुक जाए ।

Succulents plants in Hindi

मौसम के हिसाब से पानी दें

पानी सही तरीके से न देने से ही ज़्यादातर succulents मर जाते हैं । जैसे सर्दियों के मौसम में इन्हें न के बराबर पानी की जरूरत होती है , सर्दियों में इनमें ज्यादा Growth नहीं होती इसलिए 4 से 6 सप्ताह पर भी पानी देने से कोई दिक्कत नही होगी अलबत्ता लगातार पानी देते रहने से पौधा जरूर मर जाएगा ।

जब भी पानी दें तो पूरा Pot पानी डालते रहे जब नीचे से पानी Drain Out हो जाए तब छोड़ दें। पत्तियों पर पानी न दें सीधे मिट्टी में ही डालें।

गर्मियों में यह Growth ज्यादा करते हैं इसलिए पानी की आवश्यकता सर्दियों की तुलना में ज्यादा होती है । मिट्टी सूख जाने के बाद ही अगली बार पानी दें , नमी moist महसूस हो तो पानी न दें ।

सकुलेंट्स को साफ रखें

सकुलेंट्स की पत्तियों की धूल आदि को साफ करते रहें , मिट्टी ज्यादा जमा न होने दें । सफाई के लिए किसी बाल वाले ब्रश , पेंट-ब्रश का इस्तेमाल करना सही रहेगा ।पर पानी से धुलने की गलती न करें न ही पानी का स्प्रे करें ।

Succulents plants in Hindi

 

होल वाले गमले प्रयोग करें

अन्य पौधों की तरह सकुलेंट्स को भी hole वाले गमले में ही लगाना चाहिए जिससे पॉट में नीचे पानी जमा न हो और और पौधा Root rot की वजह से न मरे। hole होने से एक्सट्रा पानी रुकता नहीं है बाहर निकाल जाता है ।

सकुलेंट्स के लिए टेराकोटा के pots अच्छे होते हैं ।

Succulents plants in Hindi

 

खाद रसायन

खाद fertilizers की ज्यादा आवश्यकता सकुलेंट्स नहीं होती है , पर गर्मियों में कुछ मात्र में खाद दिया जा सकता है ।

खाद की ज्यादा मात्र पौधे को नुकसान पहुंचा सकता है इसलिए खाद डालते समय सावधानी बरतें ।

कीट /रोग

इन पौधों पर कीट आदि का ज्यादा प्रकोप तो नही होता है पर आपको पौधों की जांच करते रहना चाहिए कि कहीं किसी प्रकार कीट आदि पत्तियों पर या उसके नीचे न पनप रहे हो ।

पुराने टुथ ब्रश या ड्राइंग ब्रश से कीट आदि को हटाया जा सकता है । इसके अलावा पौधे को नमी वाली जगह से बचा कर रखें । नमी से मिलीबग जैसे सफ़ेद कीट इन पौधों पर लग जाते हैं ।

सकुलेंट्स Multiply कैसे करें

सकुलेंट्स को multiply करने का सबसे सही समय फरवरी -मार्च में होता है । कोकोपीट और परलाइट के mixture में सकुलेंट्स की पत्तियाँ तोड़ कर डाल देने से कुछ दिन में नए roots निकल आएंगे ।

इसके अलावा पुराने पौधों के साइड में नए pups आ जाते हैं उन्हें सावधानी से अलग करके नए pot में लगा सकते हैं ।

बरसात में Succulents की केयर

बरसात में अत्यधिक पानी पड़ने से पौधे खराब हो सकते हैं, इससे बचने के लिए सकुलेंट्स को shade में रखना चाहिए जहां धूप तो मिलती रहे पर ऊपर से खुला न हो ।

अगर ग्रीन फाइबर शेड में रखें तो सबसे अच्छा रहेगा ।

विशेष  

घर में जिस जगह 4 से 6 घंटे की अच्छी धूप आती हो वहाँ पर किसी छोटे टेबल पर सफ़ेद सिरेमिक पोट्स में या फिर टेरकोटा के पोट्स में 5-6 तरह के सकुलेंट्स प्लांट्स रख सकते हैं , इससे घर का look बहुत अच्छा लगेगा ।

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमे कमेन्ट करके जरूर बताएं , और नीचे दिये गए like बटन को जरूर दबाएँ , ऐसे ही पेड़-पौधों और गार्डेन से जुड़ी रोचक और उपयोगी जानकारी के लिए hindigarden.com से जुड़े रहें , धन्यवाद ।

Happy Gardening..

4 thoughts on “क्या आप के सकुलेंट्स भी घर लाते ही मुरझाने लगते हैं | Succulents Care in Hindi”

  1. बहुत अच्छी जानकारी के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद

    Reply

Leave a Comment