15 भारतीय पेड़ जिन पर खूबसूरत फूल खिलते हैं | 15 Flowering Trees in India

घरों मे भले ही पेड़ों को हम सजाने के लिए नहीं लगा पाते हैं लेकिन पार्कों , सड़कों , बड़े बड़े संस्थाओं के अंदर landscape design करने में पेड़ों को बहुत महत्व दिया जाता है ।

इनमे भी उन पेड़ों का विशेष महत्व है जिन पर बहुत ही खूबसूरत फूल आते हो , इनके अलावा भी कई पेड़ हैं जो जंगल आदि मे पनपते रहते हैं और उन पर इतने खूबसूरत फूल आते है कि देखने वाले को यकीन नहीं हो पता ।

15 Flowering Trees in India

आज हम ऐसे ही 15 पेड़ों के बारे मे जानेंगे जिन पर बहुत ही खूबसूरत फूल आते हैं , कुछ को आपने देखा भी होगा भले आपको उनका नाम न पता रहा होगा –

1- अमलतास Cassia fistula

शहरों मे या फिर किसी पुराने कॉलेज के मार्गों पर अक्सर आपने पीले रंग के फूल वाले पेड़ों को देखा होगा । फूलों के गुच्छे देखने मे अंगूर के गुच्छे जैसे लगते हैं , इन्हे अमलतास कहते हैं ।

इसके अलावा इसे बानर ककड़ी , राजवृक्ष आदि नाम से भी जाना जाता है पर ज़्यादातर अमलतास नाम से ही बुलाया जाता है ।

अप्रैल –मई माह पर यह पेड़ पीले फूलों के गुच्छे से भर जाता है ।

flowering tree in hindi
अमलतास

2-  जरूल Lagerstroemia speciosa

इसे Pride of India भी कहते हैं , हिन्दी मे इसे जरूल , अज्हर आदि नामों से बुलाया जाता है ।

अप्रैल –मई और जुलाई-अगस्त माह मे सभी शाखाओ के अंत मे purplish कलर के फूल आते हैं और पूरा पेड़ दूर से purple कलर के छाते जैसा दिखता है ।

इसके पौधे को गमले मे भी अच्छे से ग्रो किया जा सकता है ।

flowering tree in hindi
जरूल

3- कचनार Bauhinia variegate

कई जगहों पर इसे मे इसे Orchid Tree या Mountain ebony भी कहा जाता है ।

कचनार के कली का प्रयोग खाने मे भी किया जाता है , इसका आचार भी बनाया जाता है ।इसके खुशबूदार और purple,pink white कलर के फूल हर किसी का मन मोह लेते हैं ।

flowering tree in hindi
कचनार

4- सेमल Bombax ceiba

इसे सिल्क कॉटन ट्री भी कहा जाता है जिसकी ऊंचाई 15-20 मीटर से भी ज्यादा हो सकती है । हिन्दी मे इसे सेमल कहा जाता है , पुराने कैंट के इलाकों , रेलवे लाइन के किनारे यह आपको अक्सर दिख जाते होंगे ।

इस पेड़ के कई भागों से उपचार हेतु कारगर औषधि भी बनाई जाती है ।

जाड़ों मे इसमे लाल रंग के फूल दिखते हैं पर कुछ पेड़ पीले , नारंगी , हल्के लाल रंग के फूल भी आते हैं ।

इसकी कली गोल्फ बॉल जीतने आकार कि होती है जिससे स्वादिष्ट सब्जी भी बनाई जाती है ।इनके फूल जब आते हैं तब पेड़ पर एक भी पत्ती नहीं दिखती है , फूलों के झड जाने के बाद नई पत्तियाँ आना शुरू होती हैं ।

flowering tree in hindi
सेमल

5- पलाश Butea monosperma

गंगा और यमुना के दोआब वाले इलाके मे ये हजारों सालों से पाये जाते रहे हैं धीरे धीरे खेती के लिए जमीन तैयार करने के लिए काटे जाने से अब बहुत कम ही दिखते हैं ।

होली के बाद गर्मियों मे इसके लाल नारंगी रंग के फूल जंगल मे आग जैसे दिखती है इसलिए इसे flame of the forest भी कहा जाता है ।

इसके फूल से केसरिया रंग बनाया जाता है जिसे डाई के रूप मे प्रयोग किया जाता है । जयदेव के गीता-गोविंद मे भी इसकी खूबसूरती व महत्व को बताया गया है ।

flowering tree in hindi
पलाश

 

गार्डेनिंग के लिए जरूरी चीजें

Watering Canehttps://amzn.to/3gAeQeE
Cocopeathttps://amzn.to/2Ww7MJb
Neem Oilhttps://amzn.to/3B9yUMI
Seaweed Fertilizerhttps://amzn.to/3gy48Fq
Epsom Salthttps://amzn.to/3mwYWFT

6- गुलमोहर Dolenix regia

गुलमोहर शहरों और गाँव सभी जगह आपको सड़क किनारे लगे दिख जाते हैं और इसमे जब नारंगी लाल रंग के फूल खिलते हैं तब क्या ही कहना ।

मुझे लगता है कि इस पेड़ की खूबसूरती का हमारे city planners ने सही से उपयोग नहीं किया , अगर कुछ सड़कों के किनारे एक लंबी कतार गुलमोहर की लगा दी जाए तो गर्मियों मे blooming के समय क्या नज़ारा होगा उस जगह पर !!

flowering tree in hindi
गुलमोहर

7- बोटलब्रुश/चील Callistemon citrnus

पार्कों आदि के किनारे अक्सर यह पेड़ आपको दिखता होगा जिसकी ऊंचाई 8-10 के आसपास रहती है और गर्मियों में लाल रंग के फूल लटके रहते हैं, यह देखने मे bottle को साफ करने वाले ब्रुश की तरह होता है इसीलिए इसे bottle-brush भी कहा जाता है ।

इसे आप अपने गार्डेन मे भी लगा सकते है साथ छत पर भी बड़े गमले मे लगा सकते हैं ।

flowering tree in hindi
बोटलब्रश

8- पारिजात/हरसिंगार Nyctanthes arbor-tristis

हरसिंगार यानि जिससे हरि का श्रंगार किया जाता है , इसी से आप इसके महत्व को समझ सकते हैं ।इनकी ऊंचाई समान्यतः 10-12 फुट तक रहती है और इसके रात मे खिलते हैं और सुबह जमीन मे बिखरे पड़े रहते हैं जो आसपास के माहौल को महका के रख देते हैं ।

इसको भी आप अपने गार्डेन या छत पर बड़े गमले मे लगा सकते हैं ।

flowering trees in hindi
हारसिंगार के फूल

9- गलगल/ गनेरी Cochlospermum religiosum

भारतीय उपमहाद्वीप मे पाया जाने वाला यह पेड़ जिस पर पीले रंग के फूल आते हैं , इन्हें काफी पवित्र माना जाता है इसीलिए इसके वानस्पतिक नाम के आगे religiosum जुड़ा हुआ है ।

वैसे ये पेड़ आपको जंगली या ग्रामीण इलाकों मे ही दिख सकता है , शहरों मे यह जल्दी नहीं दिखता है । इसे सिल्क कॉटन ट्री और बटरकप ट्री भी कहा जाता जोकि इसके फूल के आकार और रूप के कारण कहा जाता है ।

flowering tree in hindi
गनेरी

10- परिभद्रा Erythrina indica

इसे Tiger’s claw या Indian coral tree भी कहा जाता है , इसको पूर्वी एशिया के कई देशों मे ornamental tree के रूप मे बड़े पैमाने पर लगाया जाता है ।

इसके फूल ,बीज , छल आदि का कई आयुर्वेदिक दवाओं मे प्रयोग किया जाता रहा है । श्रीलंका मे इसके लाल फूल को वहाँ के नए साल का द्योतक माना जाता है ।

flowering trees in hindi
Erythrina indica

गार्डेनिंग के लिए जरूरी चीजें

Hand Gloveshttps://amzn.to/3zlKN1O
Trowel (खुरपी)https://amzn.to/38dnE5x
Hand Prunerhttps://amzn.to/3kpeicF
Garden Scissorshttps://amzn.to/38kA0J6
Spray Bottlehttps://amzn.to/2UQ7hch

11- सीता अशोक Saraca asoca

यह ओड़ीशा राज्य का राजकीय फूल है , और इसका भारतीय उपमहाद्वीप की संस्कृति में काफी महत्व है ।

ऐसा माना जाता है कि गौतम बुद्ध का जन्म लुम्बिनी मे एक अशोक वृक्ष के नीचे ही हुआ था । इसके अलावा रामायण मे माता सीता को रावण ने अशोक वाटिका मे ही रखा जहां परर हनुमान जी से उनकी पहली बार मिलकट हुई थी ।

सीता -अशोक का फूल लगा पेड़ । फोटो साभार – विकिपीडिया

12- चम्पा Plumeria alba

बेहद पवित्र माना जाने वाला चम्पा का फूल आसानी से मैदानी इलाकों मे दिख जाता है , जिसकी ऊंचाई समान्यतः 10-15 फूट तक रहती है ।

इसके फूल बहुत ही सुंदर होते हैं जो सफ़ेद , दूधिया या रानी कलर के होते हैं ।

चम्पा

13- बसंत रानी Tabebuia rosea

इसे पिंक टिकोमा के नाम से भी जाना जाता है , जंगल पठार मे मिलने के अलावा यह कुछ मेट्रो सिटी मे सड़कों के डिवाइडर या किनारों पर अपने खूबसूरत फूलों के कारण लगाया जाता है ।

जनवरी से अप्रैल के बीज इसमे हल्के गुलाबी रंग के फूल खिलते हैं जो 10-15 फीट ऊंचे पेड़ को पूरा गुलाबी कर देता है और देखने वाले देखते ही रह जाते हैं ।

flowering trees in hindi

14- नील मोहर Jacaranda mimosifolia

दुनिया भर मे पाया जाने वाला नील मोहर गरम जलवायु मे अच्छे से बढ़ता है और 15-20 फीट तक ऊंचा हो सकता है ।

इसके नीले रंग के फूल बेहद आकर्षक दिखते हैं जोकि बसंत के मौसम मे खिलते हैं । अगर आप भीमताल गए हैं तो जो नीले रंग के फूल वाले पेड़ वहाँ दिखते हैं वह नील मोहर ही है ।

flowering trees in hindi
नील मोहर

15- सूरीनाम पाउडर पफ़ Calliandra surinamensis

बोटल ब्रुश की ही तरह यह भी अक्सर रोड के किनारे आपको दिख जाता होगा , बहुत ही खूबसूरत और प्यारे से लाल रंग के फूल आते हैं इसमें ,कुछ किस्मों मे गुलाबी , गुलाबी-सफ़ेद मिक्स कलर मे फूल आते हैं ।

साल भर फूल आते रहते हैं इस पर आप चाहे तो सूरीनाम पाउडर पफ़ पेड़ बड़े गमले मे इसे लगा सकते हैं या bonsai भी ट्राई कर सकते हैं ।

flowering trees in hindi

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमे कमेन्ट करके जरूर बताएं , और नीचे दिये गए like बटन को जरूर दबाएँ , ऐसे ही पेड़-पौधों और गार्डेन से जुड़ी रोचक और उपयोगी जानकारी के लिए hindigarden.com से जुड़े रहें , धन्यवाद ।

Happy Gardening..

6 thoughts on “15 भारतीय पेड़ जिन पर खूबसूरत फूल खिलते हैं | 15 Flowering Trees in India”

  1. पारिजात और हरसिंगार को बहुत से स्थानों में एक ही माना जाता है. जबकि जानकारों का कहना है पारिजात का पेड़ देश भर में केवल एक ही है. जिसके बीज होते हैं न कलम लगता है.
    दिखाया गया चित्र हरसिंगार का है.

    Reply
    • आपकी दोनों बात सही है । हरसिंगार को पारिजात भी कहा जाता है लेकिन हरसिंगार को उसके गुणों के कारण पारिजात कहा जाता है जबकि जिस वृक्ष को महाभारत की कहानियों मे बताया जाता है और जो यूपी के बाराबंकी मे स्थित है उसकी खास बात यह है कि उस प्रजाति के वृक्ष अफ्रीका मे पाया जाता है और उसका भारत की जलवायु मे हजारों साल पहले उगना बहुत आश्चर्य की बात है । हम जल्द ही इन दोनों पेड़ों पर पोस्ट लिखने का प्रयास करते हैं । धन्यवाद

      Reply
    • आप सबसे पहले अपने आसपास के नर्सरी और सरकारी नर्सरी , राजकीय उद्यान आदि मे चेक कर सकते हैं । इनमे से कुछ पौधे जैसे बोटल ब्रुश , सूरीनाम पफ़ आदि आपको सड़क आदि के किनारे दिख सकते हैं उनकी कटिंग लगाई जा सकती है । फिर भी आपको अगर सफलता न मिले तो इस article मे red links पर क्लिक करके चेक कर सकते हैं । धन्यवाद

      Reply
  2. बहुत ही अच्छी जानकारी है, आपकी जानकारी बहुत ही उम्दा है,

    Reply

Leave a Comment